Helpline: (+91) - 8400999161

gurujimaharj08@gmail.com

मातृ शक्ति

भगिनी निवेदिता की कहानी

भगिनी निवेदिता की कहानी | Story of Bhagini Nivedita | Bharat Mata भारत में आज भी जिन विदेशियों पर गर्व किया जाता है उनमें भगिनी निवेदिता का नाम सबसे पहले आता है, जिन्होंने न केवल भारत की आजादी की लड़ा

देखें

ब्रम्हवादिनी गार्गी

ब्रम्हवादिनी गार्गी | Bramhavadini Gaargi | Bharat Mata गार्गी वाचकन्वी एक प्राचीन भारतीय दार्शनिक थी। वेदिक साहित्य में, उन्हें एक महान प्राकृतिक दार्शनिक, वेदों के प्रसिद्ध व्याख्याता, और ब्रह्मा वि

देखें

देवी उर्मिला

देवी उर्मिला | Devi Urmila | Bharat Mata उर्मिला हिंदू महाकाव्य रामायण में एक चरित्र है। वह जनकपुर के राजा जनक की बेटी थीं और उनकी माता रानी सुनयना थीं। सीता उनकी बड़ी बहन थीं। वह राम के अनुज लक्ष्मण

देखें

कवित्रयी अंडाल

कवित्रयी अंडाल | Kavitryi Andal | Bharat Mata अण्डाल दक्षिण भारत की सन्त महिला थीं। वे बारह आलवार सन्तों में से एक हैं। उन्हें दक्षिण की मीरा कहा जाता है। अंडाल अपने समय की यह प्रसिद्ध आलवार संत थीं।

देखें

मैत्रेयी

मैत्रेयी | Maitriyi | Bharat Mata मैत्रेयी वैदिक काल की एक विदुषी एवं ब्रह्मवादिनी स्त्री थीं। वे मित्र ऋषि की कन्या और महर्षि याज्ञवल्क्य की दूसरी पत्नी थीं। याज्ञवल्क्य की ज्येष्ठा पत्नी कात्यायनी

देखें

Ahilyabai Holkar : Queen of the Malwa Kingdom

Ahilyabai Holkar : भारत के इतिहास की सबसे महान महिला शासक | Queen of the Malwa Kingdom

देखें

Mata Sati Savitri | कहानी सावित्री और सत्यवान की | पति के लिए यमराज से लड़ जाने वाली सती सावित्री

जानिए वट वृक्ष की पूजा का महत्व और सती सावित्री के प्रेम व पतिव्रत धर्म की अद्भुत कहानी।

देखें

Mata Trijata | सीता त्रिजटा को अपनी माता के समान क्यों समझती थीं? | त्रिजटा राक्षसी या देवी ?

रावण राज मे अपनी ममता व दया भावना के लिए प्रसिद्ध माता त्रिजटा को भारत माता परिवार कोटि-कोटि नमन करता है। यह वही माता त्रिजटा हैं, जिन्होंने वन मे माता सीता को सदैव धैर्य बँधाया और दिलासा दिया।

देखें

Kasturba Gandhi | बापू से कम नहीं थी कस्तूरबा गाँधी के संघर्ष की कहानी | Bharat Mata

अत्यंत वीर व कर्तव्यनिष्ठ कस्तूरबा गाँधी, ‘बापू’ की धर्मपत्नी थी पतिव्रता कस्तूरबा ने न केवल मोहनदास करमचंद गाँधी को महात्मा बनाया, साथ ही समस्त देश को स्वतंत्रता के उपदेश दिए।

देखें